Dimani vidhan sabha seat पर Girraj Dandotiya का रास्ता रोकेगा Scindia समर्थक

मुरैना की दिमनी सीट पर इस बार कांटे का मुकाबला है. यहां से ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थक गिर्राज दंडोतिया बीजेपी के टिकट से चुनाव लड़ रहे हैं. वैसे तो दंडोतिया सिंधिया के कट्टर समर्थकों में से एक गिने जाते हैं. और यही इमेज उनको नुकसान पहुंचा सकती है. उसकी बड़ी वजह ये है कि दल बदलू और टिकाऊ बिकाऊ नारे ने दिमनी में भी जोर पकड़ रखा है. कांग्रेस ने यहां से रवींद्र तोमर को टिकट दिया है. तोमर से मुकाबला इसलिए तगड़ा है क्योंकि वो साल 2008 के चुनाव में बीएसपी से चुनाव लड़ चुके हैं. उस वक्त वो महज 150 वोटों के अंतर से हारे थे. इसके बाद तोमर बीजेपी में रहे और फिर कांग्रेस में शामिल हो गए. सिंधिया समर्थक होने के बावजूद कांग्रेस केलिए उनकी आस्था को देखते हुए कमलनाथ ने उन्हें यहां से टिकट दिया है.
तमाम नारों और विरोधों के बावजूद गिर्राज दंडोतिया ज्यादा फायदे में नजर आ रहे हैं. उसका पहला कारण ये है कि कांग्रेस के प्रत्याशी से खुद कांग्रेस के स्थानीय नेता नाराज हैं जो अपना विरोध भी जता ही चुके हैं. दूसरा कारण है इस सीट का सियासी मिजाज जो आमतौर पर बीजेपी के लिए झुकाव रखता है. 1998 से 2008 तक यहां बीजेपी ही जीतती रही. 1993 को छोड़ दें तो उससे पहले के चार चुनाव भी बीजेपी या जनता पार्टी के ही नाम रहे. ऐसे में हो सकता है गिर्राज दंडोतियो को बीजेपी का दामन थामने का फायदा मिल जाए मंत्री पद से तो वो पहले ही नवाजे जा चुके हैं. जातिगत समीकरणों की बात करें तो यहां तोमर यानि कि राजपूत, अनुसूचित जाति और ब्राह्मण मतदाता निर्णायक भूमिका में हैं. क्षेत्र के कुल मतदाता हैं दो लाख 13 हजार, पुरूष वोटर हैं एक लाख 16 हजार और महिला वोटर हैं 95 लाख. ट्रांसजेंडर वोटर की संख्या छह है.

(Visited 60 times, 1 visits today)

You might be interested in