mp में राष्ट्रपति शासन? कांग्रेस के पत्र से बुरे फंसे Shivraj

कोरोना का कहर जिस तरह पूरे मध्यप्रदेश में टूट रहा है खासतौर से इंदौर और भोपाल में ठीक उसी तरह अप शिवराज सरकार पर भी टूट सकता है. शिवराज सरकार यानी ऐसी सरकार जो फिलहाल वन मैन आर्मी की तरह काम कर रही है और आप कांग्रेस ने इस पर निशाना साधा है. कांग्रेस से राज्यसभा सदस्य और प्रदेश के जाने-माने लॉयर विवेक तंखा ने राष्ट्रपति के नाम एक पत्र लिखा है और उसमें यह साफ लिखा है कि मध्य प्रदेश ऐसी विपदा के समय पर सिर्फ एक मुख्यमंत्री के भरोसे काम कर रहा है . यह प्रदेश की 7:50 करोड़ जनता के साथ अन्याय है . विवेक तंखा ने अपने पत्र में लिखा है कि मध्यप्रदेश में जल्द से जल्द कैबिनेट का गठन होना चाहिए ताकि इस महामारी के दौर को आसानी से निपटा जा सके और प्रदेश को से बचाया जा सके . और अगर ऐसा नहीं हो सकता अगर शिवराज सिंह चौहान अपना कैबिनेट गठन करने में असमर्थ है तो प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लागू किया जाना चाहिए  . यानी अब शिवराज पर प्रेशर है कि अगर वह कैबिनेट का गठन नहीं करते तो कांग्रेस अपना दांव खेलेगी और प्रदेश को राष्ट्रपति शासन की ओर ले जाएगी . देखना यह है कि राष्ट्रपति विवेक तंखा के इस पत्र का क्या जवाब देते हैं.

(Visited 10534 times, 1 visits today)

You might be interested in