अबकी बार मोदी सरकार में MP के ये सांसद बनेंगे मंत्री?

Loksabha Election 2019 के Result आ चुके हैं और BJP पूर्ण बहुमत के साथ केंद्र में सरकार बनाने जा रही है वहीं नरेंद्र मोदी 30 मई को शाम 7 बजे शपथ लेने जा रहे हैं। मध्यप्रदेश में शानदार प्रदर्शन करते हुए 29 में से 28 सीटों पर बीजेपी के सांसद चुने गए हैं और अब पूरे प्रदेश की निगाहें इस बात पर हैं कि मध्यप्रदेश से किस सांसद को मोदी मंत्रीमंडल में शामिल किया जाता है। मध्यप्रदेश के कई वरिष्ठ सांसद पहले भी केंद्र सरकार में मंत्री रहे हैं। इस बार भी जीते कुछ सांसदों के नामों पर चर्चा है। हालांकि नरेंद्र मोदी ने एनडीए का नेता चुने जाने के बाद अपने पहले ही भाषण में स्पष्ट कर दिया था कि केंद्र सरकार में मंत्री बनने के लिए कई क्रायटेरिया हैं जिसके आधार पर किसी को मंत्री बनाया जाएगा। हालांकि कुछ लोगों को पीएमओ से शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए फोन भी आ गए हैं। मध्य प्रदेश में जिन नामों को केंद्रीय कैबिनेट मंत्री बनाने की चर्चा है उस पर बात कर लेते हैं-

1. नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) – इस बार मुरैना से सांसद बने नरेंद्र सिंह तोमर पिछली मोदी कैबिनेट में भी मंत्री बनाए गए थे। इस बार भी मध्य प्रदेश से नरेंद्र सिंह तोमर का नाम सबसे ऊपर है। अगर मोदी के क्रायटेरिया में चेंज नहीं हुआ तो नरेंद्र सिंह तोमर केंद्रीय मंत्री बन सकते हैं।
2. प्रहलाद सिंह पटेल (Prahlad Singh Patel) – अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में कोयला मंत्री रह चुके प्रहलाद पटेल दमोह से लगातार दूसरी बार चुनाव जीते हैं। OBC वर्ग से आने वाले प्रहलाद पटेल को मंत्री बनाए जाने की संभावना है।
3. राकेश सिंह ( Rakesh SingH)- मध्यप्रदेश भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह जबलपुर लोकसभा सीट से लगातार चौथी बार लोकसभा चुनाव जीते हैं। इस बार उन्हें मोदी मंत्रिमंडल में लिए जाने की पूरी संभावना जताई जा रही है। राकेश सिंह को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का भी करीबी माना जाता है।
4. थावरचंद गहलोत (Thavarchand Gahlot)- हालांकि थावरचंद गहलोत ने लोकसभा चुनाव नहीं लड़ा था लेकिन वे पिछली मोदी सरकार में राज्यसभा सांसद होने के नाते मंत्री थे। इस बार भी उन्हें रिपीट किए जाने की संभावना जताई जा रही है।
5. फग्गन सिंह कुलस्ते (Faggan Singh Kulaste)- मंडला सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते बीजेपी का आदिवासी चेहरा हैं और पिछली सरकार में भी मंत्री थे। हालांकि इस बार उन्हें मंत्री बनाए जाने की संभावना कम ही नजर आ रही है।
6. वीरेंद्र खटीक (Virendra Khatik)- अनुसूचित जाति वर्ग से आने वाले वीरेंद्र खटीक पिछली मोदी सरकार में भी मंत्री थे। टीकमगढ़ से सांसद चुने गए वीरेंद्र खटीक को इस बार भी रिपीट किए जाने की संभावना जताई जा रही है।
7. कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya)- हालांकि कैलाश विजयवर्गीय न तो लोकसभा से और न ही राज्यसभा से सांसद हैं लेकिन माना जा रहा है कि बंगाल में बीजेपी की भारी जीत का इनाम विजयवर्गीय को मिल सकता है। मंत्रीमंडल में उन्हें लेकर राज्यसभा सांसद बनाया जा सकता है या फिर संगठन में कोई और महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी जा सकती है।

(Visited 70 times, 1 visits today)

You might be interested in

LEAVE YOUR COMMENT